Farming

Market

धान की फसल में 10 प्रमुख समस्याएं और उनके समाधान

धान या चावल की खेती के दौरान कई समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं। यहां 10 प्रमुख समस्याएं और उनके संभावित समाधान हैं: जल प्रबंधन धान की खेती के लिए पर्याप्त जल प्रबंधन महत्वपूर्ण है। जलभराव, सूखा या अधिक पानी फसलों को काफी नुकसान पहुंचा सकता है। इन मुद्दों पर काबू पाने के लिए, किसानों को …

धान की फसल में 10 प्रमुख समस्याएं और उनके समाधान Read More »

Mahindra Tractors is giving a chance to become a dealer, apply like this

महिंद्रा ट्रैक्टर्स दे रहा है डीलर बनने का मौका, ऐसे करे Apply

महिंद्रा ट्रैक्टर राजस्थान राज्य में एक जिला-स्तरीय डीलर बनने का अवसर प्रदान कर रहा है जिसमें 15 से 75 एचपी की श्रेणी के ट्रैक्टर शामिल होंगे।

PMFBY: What is Pradhan Mantri Fasal Bima Yojana and how to apply for it

PMFBY: प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के बारे में ये बातें आपको जरूर जाननी चाहिए, क्या है और कैसे करें इसके लिए आवेदन

प्रधान मंत्री फसल बीमा योजना है जिसका उद्देश्य प्राकृतिक आपदाओं के कारण फसल हानि या क्षति के मामले में किसानों को वित्तीय सहायता प्रदान करना है…

Chaudhary Charan Singh, National Institute of Agricultural Marketing, CCS-NIAM, Jaipur, agricultural, Narendra Singh Tomar,

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने युवाओं और छात्रों से कृषि को अधिक लाभदायक बनाने में योगदान देने को कहा।

भारतीय कृषि मंत्री तोमर ने जयपुर में चौधरी चरण सिंह राष्ट्रीय कृषि विपणन संस्थान (सीसीएस-एनआईएएम) के चौथे दीक्षांत समारोह के दौरान छात्रों और युवाओं से देश के कृषि क्षेत्र में योगदान देने का आग्रह किया। तोमर ने भारत सरकार की किसान हितैषी नीतियों और देश में कृषि स्टार्टअप के तेजी से विकास की भी प्रशंसा की।

How mushroom farming can double your income

जानिए! मशरूम की खेती आपके लिए कैसे फायदेमंद हो सकती है, तरीके और लागत की पूरी जानकारी

मशरूम की खेती एक लाभदायक और टिकाऊ कृषि व्यवसाय है जो भारत में लोकप्रियता प्राप्त कर रहा है। यह पौष्टिक और स्वादिष्ट फसल उगाने का एक आसान और कम लागत वाला तरीका है जिसकी बाजार में उच्च मांग है। इस लेख में, हम मशरूम की खेती के प्रशिक्षण की मूल बातें, भारत में मशरूम की खेती की …

जानिए! मशरूम की खेती आपके लिए कैसे फायदेमंद हो सकती है, तरीके और लागत की पूरी जानकारी Read More »

The Importance of Organic Farming and Sustainable Agriculture Practices in India India has a rich history of agriculture, with a diverse range of crops grown in different regions and a wealth of knowledge passed down from generation to generation. However, the rapid modernization of agriculture and increasing use of chemical inputs has raised concerns about the health of the environment and food security. In response to these challenges, organic farming and sustainable agriculture practices have gained attention as a way to promote both ecological health and economic stability for farmers. What is Organic Farming? Organic farming is a method of growing crops and raising livestock that relies on natural processes and materials instead of synthetic chemicals. This includes using compost and other natural fertilizers, rotating crops to maintain soil health, and using natural predators to control pests. Organic farming also prohibits the use of synthetic pesticides and genetically modified organisms (GMOs). Why is Organic Farming Important in India? Organic farming is becoming increasingly important in India for several reasons. Firstly, it helps to reduce the environmental impact of agriculture by reducing soil degradation, water pollution, and air pollution. By avoiding the use of synthetic inputs, organic farming promotes a more diverse and resilient ecosystem, supporting the health of soil, water, and air, which are essential for life. Organic farming also supports the health and well-being of farmers and consumers. By reducing exposure to synthetic chemicals, organic farming helps to minimize health risks for farmers and those who live and work on the land. Additionally, organic produce is often seen as being more nutritious, as it is grown without the use of synthetic inputs, which can be harmful to human health. Challenges of Transitioning to Organic Farming Transitioning to organic farming is not without its challenges. It can take several years to develop the skills and knowledge necessary to grow crops without synthetic inputs and to establish the infrastructure necessary to certify crops as organic. Additionally, organic crops can be more vulnerable to pests and diseases, which can result in reduced yields. However, with the right training, support, and resources, these challenges can be overcome. Benefits of Transitioning to Organic Farming Despite the challenges, there are many benefits to transitioning to organic farming. Organic crops can command higher prices, which can result in increased income for farmers. Additionally, organic farming can help to support rural communities and promote sustainable development, by providing livelihoods and promoting healthy ecosystems. In addition to these economic benefits, organic farming also supports the conservation of biodiversity, promotes soil health, and helps to reduce the environmental impact of agriculture. By avoiding the use of synthetic inputs, organic farming helps to reduce water pollution and air pollution and supports the health of soil and water, which are essential for life. Conclusion Organic farming and sustainable agriculture practices are becoming increasingly important in India, as they offer a way to promote both ecological health and economic stability for farmers. By relying on natural processes and materials, organic farming helps to reduce the environmental impact of agriculture and supports the health of the soil, water, and air. Additionally, organic crops can command higher prices and provide increased income for farmers. Despite the challenges of transitioning to organic farming, the benefits are clear and the importance of this approach cannot be overstated.

भारत में जैविक खेती और सतत कृषि पद्धतियों का महत्व, परिवर्तन की चुनौतियाँ व लाभ

भारत का कृषि का एक समृद्ध इतिहास रहा है, जिसमें विभिन्न क्षेत्रों में उगाई जाने वाली विविध प्रकार की फसलें और ज्ञान का खजाना पीढ़ी दर पीढ़ी हस्तांतरित होता रहा है। हालांकि, कृषि के तेजी से आधुनिकीकरण और रासायनिक आदानों के बढ़ते उपयोग ने पर्यावरण के स्वास्थ्य और खाद्य सुरक्षा के बारे में चिंताएं बढ़ा …

भारत में जैविक खेती और सतत कृषि पद्धतियों का महत्व, परिवर्तन की चुनौतियाँ व लाभ Read More »

The government has issued a notification regarding the increase in per quintal of sugarcane in the month of October.

सरकार ने अक्टूबर माह में गन्ने की प्रति क्विंटल कीमत में बढ़ोतरी को लेकर अधिसूचना जारी कर दी है। 2022

सरकार ने शुक्रवार को बढ़ोतरी के संबंध में एक अधिसूचना जारी की। इससे पहले, पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने अक्टूबर के महीने में गन्ने पर मौजूदा 360 रुपये प्रति क्विंटल की तुलना में 380 रुपये प्रति क्विंटल की वृद्धि की घोषणा की थी। श्री मान ने कहा कि किसानों को पिछले वर्ष की तुलना …

सरकार ने अक्टूबर माह में गन्ने की प्रति क्विंटल कीमत में बढ़ोतरी को लेकर अधिसूचना जारी कर दी है। 2022 Read More »

BEST REVERSIBLE MB PLOUGH IN INDIA

Hydraulic Reversible MB Plough भारत में निर्मित साधु सिंह कृषि उद्योग “SADHU IMPLEMENTS” का REVERSIBLE MB PLOUGH पंजाब हरियाणा उत्तरप्रदेश दिल्ली में किसानों द्वारा पराली जलाए जाने से बचाने के लिए सब्सिडी पर उपलब्ध है I उसका लोहा BORON STEEL के साथ निर्मित है I यह 2X2 और 3X3 के मॉडल में उपलब्ध है l …

BEST REVERSIBLE MB PLOUGH IN INDIA Read More »

SPEED DISC HARROW भारत में निर्मित बेहतरीन कृषि यंत्र

नमस्कार साथियों I आज हम कृषि क्षेत्र के अंदर जमीन को फसल के उपयोगी बनाने वाले एक कृषि यंत्र डिस्क हैरो के एक नवीनतम यंत्र जिसका नाम SPEED DISC HARROW हैं I जैसा की आप सभी नाम से ही समझ गए होंगे की SPEED हांजी ट्रैक्टर के पीछे ट्रैक्टर को आसान तरीके से चलने वाली …

SPEED DISC HARROW भारत में निर्मित बेहतरीन कृषि यंत्र Read More »

पराली जलाने की समस्या

पंजाब में पराली जलाने की समस्या: ऐसा क्यों होता है और क्या किया जा रहा है?

पंजाब में पराली जलाने का काम दशकों से चल रहा है, और इस प्रथा को समाप्त करने के सभी प्रयास विफल हो गए हैं, जिसके परिणामस्वरूप अक्सर राज्य के प्रमुख शहरों में हर सर्दियों में कोहरा छाया रहता है। लेकिन ऐसा क्यों होता है? और इसके बारे में क्या किया जा रहा है? यहां आपको …

पंजाब में पराली जलाने की समस्या: ऐसा क्यों होता है और क्या किया जा रहा है? Read More »

Dryland Farming In India

भारत में शुष्क भूमि खेती के तरीके और फायदे और नुकसान रिपोर्ट 2022

भारत की शुष्क भूमि वाली फसल की किस्में निम्नलिखित हैं जो उन क्षेत्रों में उगाने के लिए उपयुक्त हैं जहां बारिश की कमी है। अनियमित वर्षा वाले क्षेत्रों में शुष्क भूमि कृषि आवश्यक है, जहां सूखा-सहिष्णु फसलें उगाई जा सकती हैं। शुष्क भूमि खेती, या शुष्क भूमि कृषि, वह तकनीक है जिसके द्वारा शुष्क भूमि …

भारत में शुष्क भूमि खेती के तरीके और फायदे और नुकसान रिपोर्ट 2022 Read More »

Can AI Bring Indian Agriculture to the Next Level

क्या AI भारतीय कृषि को अगले स्तर पर ला सकता है?

भारत में कृषि क्षेत्र आर्थिक समय के दौरान सबसे मजबूत में से एक है, और यह हाल ही में स्वाइन फ्लू के प्रकोप के दौरान भी उल्लेखनीय रूप से लचीला साबित हुआ है। इस ताकत के बावजूद, ऐसे कई कारक हैं जो भारतीय कृषि को उसकी क्षमता तक पहुंचने से रोक रहे हैं, जिसमें अक्षम …

क्या AI भारतीय कृषि को अगले स्तर पर ला सकता है? Read More »

artificial intelligence and robotics in agriculture

कृषि में AI (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस) और रोबोटिक्स का प्रयोग कितना कारगर होगा

कृषि कंपनियों की एक नई पीढ़ी सटीक खेती के युग की शुरुआत करने के लिए कृत्रिम बुद्धिमत्ता और रोबोटिक्स जैसी अत्याधुनिक तकनीकों का उपयोग कर रही है। किसानों को उनके कार्यों के पर्यावरणीय प्रभाव को कम करते हुए उनकी पैदावार को अधिकतम करने में मदद करने पर ध्यान केंद्रित किया गया है।

PM Modi Pitches for Natural Farming, Calls it Basis for Economic Success

प्रधान मंत्री ने प्रभावी खेती के तरीकों का आह्वान किया जो पानी के संरक्षण में मदद कर सकते हैं

जय जवान, जय किसान, जय विज्ञान और जय अनुसंधान के साथ सैनिक, किसान, वैज्ञानिक और आविष्कारक की जय हो, मोदी ने कहा।प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के अनुसार, जैविक और प्राकृतिक खेती में महंगे उर्वरक आयात को कम करने की क्षमता है, जिससे वे भारत के आत्म निर्भर (आत्मनिर्भर) को प्राप्त करने की दिशा में एक …

प्रधान मंत्री ने प्रभावी खेती के तरीकों का आह्वान किया जो पानी के संरक्षण में मदद कर सकते हैं Read More »